Wednesday, 23 January 2008

मैं जब- जब...


मैं जब- जब तनहाइयों में आहें भरता रहा,
तुम रंगीनियों की दुनिया में मगन रही ।

कैसे किया तुमने कभी मुझसे मुहब्बत का दावा,
कैसे सदियों से मुझे तुम झुठलाती रही हो !
मेरे लिए तेरी मुहब्बत का हसीन-सा तोहफ़ा है,
मैं आँसू पीता रहा और तुम इठलाती रही हो ।


मैं समझ नहीं पाता मेरे लिए तेरी मुहब्बत को
तेरी मुहब्बत में कोई दर्द हो या कोई भाव ना हो,
पर तुम किसी से प्रेम करने का कोई वादा न करना
मैं दीवाना बुझा लूँगा, मेरे भीतर अब जो भी अगन रही,

मैं जब- जब तनहाइयों में आहें भरता रहा,
तुम रंगीनियों की दुनिया में मगन रही ।

क़ायल हो गे मैं तेरी मुहब्बत का रुप देखकर,
फिर क्यूँ न तुझे अपनी पाक नज़रों पर रखूँ !
चलो, माना ये बेरुखी हलाहल है मुहब्बत का,
तो क्यूँ न इसे मैं जीते- जी बेबाक चखूँ !

मैं टूटा तारा, अपनी रोशनी कभी न खोएगा
और मेरा मायूस मन बेबसी में भी न रोएगा,
पर खेलता रहा मैं जब- जब अपने गर्दिश के तारों संग,
तेरी क़िस्मत के सितारों की तब भी बनी लगन रही,

मैं जब- जब तनहाइयों में आहें भरता रहा,
तुम रंगीनियों की दुनिया में मगन रही ।

- "प्रसून"

1 comment:

chandrapal said...

u r so creative person.i m reading ur blog regularly so pls keep it up.u can see my blog also,
www.laghukatha.blogspot.com